PATNA (MR) : बिहार में रोहतास के एक मुखिया ने अनिल कपूर की फिल्म नायक के तर्ज पर अनोखा निर्णय लिया है। वे तीन दिनों के लिए अपनी कुर्सी, अपना पद समेत गाड़ी-घोड़ा नौवीं की छात्रा काजल कुमारी को सौंप दिया है। यह पूरा मामला रोहतास के हथिनी पंचायत का है। यहां के रूपहथा गांव की रहने वाली नौंवी की छात्रा काजल कुमारी को तीन दिनों के लिए मुखिया बनाया गया है। 

हथिनी पंचायत का मामला : काजल कुमारी सोमवार 30 जनवरी से एक फरवरी तक मुखिया की कुर्सी पर काबिज रहेगी। वे हथिनी पंचायत के प्रधान की कुर्सी संभालेंगी। वर्तमान मुखिया दयानंद सिंह की सहमति व ग्रामीणों के समर्थन के बाद काजल को मुखिया का प्रभार दिया गया है। मिली जानकारी के अनुसार, सोमवार से बुधवार तक काजल पंचायत से जुड़ी गतिविधियों और विकास कार्यों को देखने के साथ ही उस पर फैसले भी लेंगी। पंचायत में ग्राम सभा भी आयोजित होगी और उस दौरान विकास योजना का प्रस्ताव भी सर्वसम्मति से पारित किया जाएगा। 

कैबिनेट का किया गठन : तीन दिनों के लिए बनी मुखिया काजल ने कैबिनेट का भी गठन कर लिया है। इसमें उसके साथ पढ़ने वाले अन्य छात्र-छात्राओं को शामिल किया गया है। पंचायत के मुखिया दयानंद सिंह के अनुसार, उनकी पहल पर गणतंत्र दिवस के लिए 25 जनवरी को विद्यालय में प्रतियोगिता आयोजित की गई थी। इसमें पंचायत के कई छात्र-छात्राएं शामिल हुए। परीक्षा में सफल होने को लेकर पुरस्कार के रूप में यह तय किया गया कि जो भी अव्वल आएगा, उसे तीन दिन के लिए पंचायत का मुखिया नामित किया जाएगा। काजल कुमारी ने सबसे अधिक नंबर हासिल किए। इसी वजह से उसे तीन दिनों के लिए मुखिया बनाया गया है। 

क्या कहती है काजल : काजल कहती है कि तीन दिनों के लिए मुखिया बनाए जाने पर मैं काफी खुश हूं और पंचायत की जो भी बुनियादी समस्याएं हैं। उन्हें दूर करने की कोशिश करूंगी। खासकर प्रदूषण और गंदगी से जुड़ी समस्याओं से लोगों को निजात दिलाऊंगी। इतना ही नहीं, स्कूलों में स्टूडेंट्स और टीचर्स की उपस्थिति पर ध्यान दूंगी। इधर, हथिनी पंचायत के लोगों ने काजल कुमारी का स्वागत किया है। वहीं, वर्तमान मुखिया ने अपनी नेम-प्लेट लगी स्कॉर्पियो गाड़ी भी 3 दिनों के लिए काजल कुमारी को दे दी है, ताकि वे पंचायत के विभिन्न गांव में घूम कर सरकारी योजनाओं की जांच कर सके। इस प्रतियोगिता में दूसरे तथा तीसरे स्थान पर आने वाले बच्चों को मुखिया के कैबिनेट में शामिल किया गया है, जो मुखिया के साथ ही रहेंगे। 

क्या कहते हैं दयानंद सिंह : हथिनी पंचायत के वर्तमान मुखिया दयानंद सिंह कहते हैं कि गांव के लोगों की राय-विचार के बाद बच्चों के हौसला बढ़ाने के उद्देश्य से यह फैसला लिया गया है। अब देखना है कि इन 3 कार्य दिवस में मुखिया बनी काजल कुमारी गांव के विकास के लिए क्या-क्या नीतिगत फैसले लेती है। हमलोग उसके साथ है। इस फैसले से बच्चों में लीडरशिप वाला गुण डेवलप होगा। 

Previous articleवासंती हुआ मौसम, झूमने लगे सरसों के फूल; याद आ गए कामदेव, विभोर हो गयी रति
Next articleअपने भीतर के गोडसे को दबाएं, गांधी को उभारें : पुष्यमित्र

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here