Delhi (MR) : बिहार दिवस 2022 (Bihar Diwas 2022) पर देश की राजधानी दिल्ली भी बिहारी रंग में सराबोर हो गयी। दिल्ली हाट (Delhi Hat) में आयोजित कार्यक्रम ने चार चांद लगा दिये। बिहार के मंत्रियों-सांसदों ने इसकी रौनकता बढ़ा दी। मंच से लेकर मन तक ‘जय बिहार, जय-जय बिहार’ से गूंज हो उठा। 

बिहार दिवस के मौके पर दिल्ली के दिल्ली हाट में आयोजित कार्यक्रम का उद्घाटन केंद्रीय वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने किया। केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय, केंद्रीय खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण राज्यमंत्री अश्विनी कुमार चौबे, केंद्रीय ऊर्जा मंत्री आरके सिंह, केंद्रीय खाद्य प्रसंस्करण मंत्री पशुपति कुमार पारस, केंद्रीय इस्पात मंत्री आरसीपी सिंह, केंद्रीय पंचायती राज एवं ग्रामीण विकास मंत्री गिरिराज सिंह, केंद्रीय श्रम एवं रोजगार मंत्री भूपेंद्र यादव समेत बिहार के लगभग सभी सांसद इस खास मौके पर मौजूद रहे। बिहार के उद्योग मंत्री शाहनवाज हुसैन ने कार्यक्रम की अध्यक्षता की, जबकि संचालन दूरदर्शन की रूपम त्रिविक्रम ने किया। 

भोजपुरी सिनेमा से संसद तक का सफर तय करने वाले दिल्ली के बीजेपी सांसद मनोज तिवारी ने अपने लोकगायन से दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया। बिहार की बेटी गायिका विजया भारती ने अपने गीतों से समां बांधा। सबों की शानदार प्रस्तुति से पूरे दिल्ली को बिहारी रंग में रंग दिया। केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि बिहार अब प्रचुण क्षमताओं वाला राज्य है। बिहार की क्षमता का अभी भी सही मायने में इस्तेमाल नहीं हुआ है। परिवर्तन का बिगुल जब-जब बजा है, वह बिहार से ही बजा है। अब वह चाहे सत्याग्रह आंदोलन का बिगुल हो, जिसे महात्मा गांधी ने चंपारण से शुरू किया या फिर आपातकाल के खिलाफ संपूर्णक्रांति हो, जिसे भारत रत्न जय प्रकाश नारायण के नेतृत्व में बिहार से ही शुरू किया गया। 

उन्होंने कहा कि बिहार अब उद्योग और टेक्सटाइल के क्षेत्र में आगे बढ़ेगा। यही संदेश प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का भी है। बिहार की क्षमता को अभी पुरी दुनिया ने पहचाना नहीं है। लीची और आम बिहार का देश के साथ अब दुनिया में भी पहुंच रहा है। मैं सभी बिहारवासियों का ऋणी हूं। आज आप रेलवे स्टेशन पर मधुबनी पेंटिंग बनी हुई देख सकते हैं, इससे सुंदर और क्या हो सकता है। पीयूष गोयल ने इस मौके पर बिहार प्रवीन चौहान के नाम का भी जिक्र भी किया, जो कि मंदिर के पूजा के फूल से नेचुरल डाई बना रहे हैं और उनकी डाई का इस्तेमाल जापान तक हो रहा है। 

बिहार के उद्योग मंत्री सैयद शाहनवाज हुसैन ने कहा कि अमृतसर-कोलकाता कॉरिडोर में स्थित चंपारण में मेगा टेक्सटाइल मैत्री पार्क के लिए 1719 एकड़ की जमीन का अलोटमेंट हो चुका है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में यह बिहार के लिए बड़ी उपलब्धि है। आठ मेगा औद्योगिक पार्क के निर्माण से बिहार अब विकास की राह पर नया कृतिमान स्थापित करते हुए पूर्वांचल भारत का औद्योगिक हब के रूप में अपनी पहचान बनाने की ओर आगे बढ़ रहा है। 

इस वर्ष बिहार दिवस का विषय जल जीवन हरियाली पर आधारित है, जिससे सभी को इसके तहत बिहार में किए जा रहे विकास के बारे में अवगत करवाया जा रहा है।

दिल्ली हाट में 59 से अधिक बिहार के हस्तशिल्प एवं हस्तकरघा उत्पादों के स्टॉल लगाए गए। इसमें मुख्य रूप से बिहार के हैंडलूम उत्पाद के 21 स्टॉल, 9 स्टॉल मधुबनी पेंटिंग, 3 स्टॉल लेदरक्राफ्ट, 2 स्टॉल सुजनी क्राफ्ट, 2 स्टॉल लाह शिल्प, आर्टिफिशियल ज्वेलरी, मखाना और बंबू क्राफ्ट आदि के स्टॉल लगे हुए थे। कार्यक्रम में स्वादिष्ट बिहारी व्यंजनों का भर-पूर स्वाद लिया। इस दौरान लिट्टी-चोखा से लेकर दही-जलेबी तक तरह-तरह के सुप्रसिद्ध बिहारी व्यंजन के स्टॉल लगे हुए थे।

Previous articleबिहार पर्यटन के नक्शे पर आएगा तारापुर का ढोलपहाड़ी गांव, विधायक राजीव के सवाल पर सदन में मंत्री ने दिया जवाब
Next articleबिहार में आंधी-तूफान : आम-लीची पर ओलावृष्टि का कहर, खेत-खलिहान में गेहूं के भीगने से किसान मायूस

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here