PATNA (MR) : यही है लोकतंत्र की खूबसूरती। अपनी माटी की मिठास। बिहार की पहचान। लोग थोड़ा धैर्य का परिचय दें तो इसकी मिठास और बढ़ जाती है। खूबसूरती और अधिक निखर जाती है। यह अनुकरणीय पल देखने को मिला बिहार के जमुई स्थित गिद्धौर में। जब बीजेपी विधायक श्रेयसी सिंह वोट देने के लिए अपनी बारी का इंतजार करती महिलाओं की लंबी कतार में दिखीं। उनकी मां भी साथ में थीं। 

दरअसल, बिहार पंचायत चुनाव का तीसरा चरण शुक्रवार को था। इस चरण में 35 जिलों के 50 प्रखंडों की 759 पंचायतों में वोटिंग हुई। इसमें जमुई का गिद्धौर प्रखंड भी शामिल था। सुबह 7 बजे से ही मतदान शुरू हो गया। गिद्धौर प्रखंड में ही जमुई की बीजेपी विधायक कम नेशनल शूटर श्रेयसी सिंह का घर है। उनका घर कुंधुर पंचायत में है। सो, वह पहुंच गयीं वोट देने। उनके साथ उनकी मां पूर्व सांसद पुतुल कुमारी व परिवार के अन्य लोग शामिल थे। 

खास बात कि श्रेयसी ने इसकी सूचना पहले सोशल मीडिया पर दी, ताकि अधिक से अधिक लोग लोकतंत्र के महापर्व में अपनी सक्रिय भागीदारी निभाएं। इसका असर देखने को मिला भी। काफी संख्या में महिलाएं घर से निकलीं और लोकतंत्र को मजबूत करने में जुट गयीं। जब वह अपनी कुंधुर पंचायत के नया गांव में बने बूथ पर पहुंची तो वहां काफी लंबी कतार थी। वह उसी कतार में सबसे पीछे खड़ी हो गयीं। वह अपनी मां पुतुल कुमारी को अपने से आगे लगा दीं। फिर अपनी बारी आने के लिए घंटों इंतजार करती रहीं। 

बीजेपी विधायक श्रेयसी सिंह चूंकि सोशल मीडिया-मोबाइल फ्रेंडली हैं। वह फेसबुक पर इसे शेयर भी करती हैं। वोट देने के बाद उन्होंने फोटो टैग करते हुए अपना विचार फेसबुक पर पोस्ट शेयर किया है। उन्होंने लिखा है- ‘बिहार पंचायत चुनाव के तीसरे चरण में अपने मताधिकार का प्रयोग किया। पूर्व सांसद, बांका मां पुतुल कुमारी जी और परिवार के अन्य सदस्यों एवं साथी मतदाताओं संग कुंधुर पंचायत के नयागांव स्थित विद्यालय में अपना बहुमूल्य मत देकर लोकतंत्र के सबसे छोटे परंतु सबसे महत्वपूर्ण स्तर पर योगदान दिया। आशा है कि इस बार के चुनाव में ज्यादा से ज्यादा उन्नतिशील प्रतिनिधियों की जीत होगी।’ बहरहाल सोशल मीडिया पर महिलाओं की लंबी कतार में खड़ीं अपनी बारी का इंतजार करतीं श्रेयसी का फोटो तेजी से वायरल हो रहा है।

Previous articleBihar Panchayat Chunav 2021 3rd Phase : दरभंगा में एसएसपी के काफिले पर पथराव, गोपालगंज में बीडीओ को खदेड़ा; लखीसराय में भी मारपीट
Next articleBook Review : ऐतिहासिक दस्तावेजों का महत्वपूर्ण संकलन है ‘बिहार में खादी’, गांधी ने चरखे के साथ इसे भी माना था रचना का प्रतीक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here