PATNA (MR)। Rivers started flowing in Bihar: बिहार में मॉनसून अभी ठीक से बरसा भी नहीं है कि नदियां बौराने लगीं। मुजफ्फरपुर में बागमती बुधवार को अचानक उफना गई है। पीपा पुल बह गया तो 14 पंचायतों का रोड से कनेक्शन कट गया है। उधर, कोसी की भी स्थि​ति ठीक नहीं है। वह लबालब कर रही है। लोगों में अनहोनी की आशंका घर करती जा रही है। घर के सामानों को ऊंचे स्‍थानों पर रखना शुरू कर दिया है।

मिल रही जानकारी के अनुसार, मानसून की पहली बारिश में ही बागमती नदी उफना गई। नदी का वाटर लेवल पांच फीट अधिक हो गया है। कटरा प्रखंड के बकुची पीपा पुल नदी की तेज धार में बह गया। वहीं गंगेया में बना पीपा पुल डैमेज हो गया है। बसघट्टा डायवर्सन पर भी पानी चढ़ गया है।

बताया जाता है कि बकुची पीपा पुल के बह जाने से 14 पंचायतों का रोड से कनेक्शन कट गया है। गंगेया, सोनपुर, माधोपुर, तेहबारा, बकुची, नबादा, बसघट्टा समेत दो दर्जन गांव पानी से घिर गये हैं। दूसरी ओर औराई में चचरी पुल के डैमेज होने से सरहंचिया, अतृआर, अमनौर, महेशवारा, सहिलाबल्ली, डीहजीवर, औराई, बभनगामा, आलमपुर सिमरी, रतवारा पूर्वी, रतवारा पश्चिमी, राजखंड उत्तरी, राजखंड दक्षिणी, मथुरापुर बुजुर्ग पंचायत आदि के ग्रामीण प्रभावित हैं।

उधर, कोसी भी लबालब है। मानसून की बारिश के साथ ही वाटर लेवल बढ़ने लगा है। लोगों की मानें तो मानसून में जोरदार बारिश होगी तो कोसी के बौराने से इनकार नहीं किया जा सकता है। इसे लेकर खासकर मरौना प्रखंड क्षेत्र के खोखनाहा, अमीन टोला, लक्ष्मीनिया,जोबहा, जोबहा छीट, मना टोला, पिपरपाति, सिसौनी छीट सरायगढ़ प्रखंड के ढ़ोली, सियानी आदि गांवों के लोग अभी से सहमे हुए हैं।

Previous articleIndia-China Border Tension: भारत-चीन बॉर्डर पर हिंसक झड़प में पटना-समस्तीपुर-सहरसा के लाल शहीद, अधिसंख्‍य जवान बिहार-झारखंड के
Next articleबिहार: छपरा जिला परिषद के उपाध्यक्ष की कुर्सी चली गई, अविश्वास प्रस्ताव में 27 सदस्यों ने विरोध में डाले वोट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here