PATNA (MR) : बिहार पंचायत चुनाव ने युवाओं के लिए राजनीति की नयी जमीन तैयार कर दी है। मुखिया हो या जिला पार्षद अथवा पंचायत समिति सदस्य हों, हर प्लेटफॉर्म पर युवाओं ने जोरदार ढंग से एंट्री की है। इसी कड़ी में महज 24 साल की उम्र में अंकित यदुवंशी ने प्रखंड प्रमुख की कुर्सी पर कब्जा जमा लिया। 

दरअसल, युवाओं की नई पौध पॉलिटिक्स में अपना करियर देखना शुरू कर दिया है। इसी वजह से राजनीति में अब युवा एंट्री लेने लगे हैं। ऐसे युवाओं के लिए पंचायत चुनाव ने राजनीति की शानदार जमीन दे दी। ऐसे ही एक युवा हैं अंकित यदुवंशी। महज 24 साल की उम्र में 29 दिसंबर बुधवार को प्रखंड प्रमुख बन गए। 

बक्सर जिले के नावानगर के प्रखंड प्रमुख बनने वाले अंकित को एकतरफा जीत मिली है। कुल 22 पंचायत समिति सदस्यों में से विरोधी संजू देवी को केवल तीन वोट मिले। अंकित को 19 वोट मिले। इस तरह ये 16 वोट से जीत गए। वे सबसे कम उम्र के प्रमुख बन गए। 

प्रखंड प्रमुख के चुनाव के पहले डुमरांव अनुमंडल में नावानगर प्रखंड प्रमुख का चुनाव शांतिपूर्ण ढंग हुआ। डुमरांव SDO के समक्ष सभी पंचायत समिति सदस्यों ने पद और गोपनीयता की शपथ ली। 

इसके बाद प्रखंड प्रमुख का चुनाव हुआ। इस तरह अंकित ने बाजी मारी। अंकित ने कहा- मैं अपनी जीत का श्रेय युवाओं को देता हूं। युवाओं ने बहुत साथ दिया। मैं उनका ऋहूंगा, जिन्होंने हर परिस्थिति में मेरा साथ निभाया। 

Previous articleचंडीगढ़ नगर निगम चुनाव में AAP का शानदार प्रदर्शन, पहली बार में ही 35 में से 14 सीटों पर कब्जा
Next articleयूपी में समय पर विधानसभा चुनाव, घर बैठे वोट डालेंगे बुजुर्ग; सुबह 8 से शाम 6 बजे तक वोटिंग, EC की PC की खास बातें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here