नवादा। बिहार के नवादा में मुखिया व मुंशी हत्यांकाड के मामले में फंस गए हैं। मृतक रंजय यादव की पत्नी कविता यादव ने प्राथमिकी दर्ज करायी है। इसमें नवादा के सातन बिगहा स्थित मिर्जापुर पंचायत के मुखिया शमशेर जर्रा, मुंशी बुगल खां समेत सात लोगों को आरोपी बनाया गया है। पुलिस ने छापेमारी तेज कर दी है। हालांकि, अभी किसी की गिरफ्तारी की सूचना नहीं है। रजौली एसडीपीओ संजय कुमार ने मीडिया को बताया कि जल्द ही सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा। बताया जाता है कि बालू घाट के विवाद को लेकर हत्या की घटना हुई है।

जानकारी के अनुसार, नवादा के मेसकौर थाना क्षेत्र स्थित सातन बिगहा मोड़ पर 32 वर्षीय युवक रंजय यादव की हत्या कर दी गयी थी। उसका शव शुक्रवार की सुबह बरामद की गई थी। उसे सीने में अपराधियों ने गोली मारी थी। मृतक के पिता महेंद्र यादव के अनुसार, गुरुवार की देर शाम बालू घाट के मुंशी सातन बिगहा निवासी बुगल खां उर्फ इम्तेयाज ने रंजय को फोन किया था। दोनों के बीच फोन पर ही काफी बहस हुई थी। उसी के बुलाने पर रंजय घर से निकला था। लेकिन रात में वह नहीं लौटा।

किसी अनहोनी के डर से घर के लोग रात भर दहशत में रहे। जिसका डर था, वही हुआ। शुक्रवार की सुबह रंजय का शव बरामद हुआ। शव नदी किनारे फेंका हुआ था। बाद में रंजय की पत्नी कविता के बयान पर प्राथमिकी दर्ज की गई। प्राथमिकी में मुखिया शमशेर जर्रा व बालू घाट के मुंशी बुगल खां उर्फ इम्तेयाज खां के अलावा शेरू खां, मुख्तार खां, पिंटू यादव, रवींद्र यादव व असगर खां को आरोपी बनाया गया। इसमें केवल असगर गुहिला गांव का रहने वाला है, जबकि बाकी आरोपी सातन बिगहा का ही है।

Previous articleबिहार में आधा दर्जन मुखिया के खिलाफ FIR, मनाही के बाद भी जला डाला फसल अवशेष
Next articleमहाराष्ट्र को मिली स्वीकृति तो बिहार को जगी आस… विधान परिषद की नौ सीटों का मामला…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here