PATNA (MR) : डेंगू जिस तरह से पटना समेत बिहार के अन्य जिलों में पांव पसार रहा है, इसे लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अस्पतालों को कड़े निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि डेंगू की रोकथाम को लेकर स्वास्थ्य विभाग पूरी तरह से अलर्ट रहे। अस्पतालों में सभी जरूरी चीजों का इंतजाम रखें। ब्लड बैंक में प्लेटलेट्स की उपलब्धता सुनिश्चित कराएं। साथ ही सभी जगह डेंगू रोधी दवा का छिड़काव नियमित रूप से कराएं।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने यह निर्देश स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा बैठक में दिए। बैठक में उप मुख्यमंत्री सह स्वास्थ्य मंत्री तेजस्वी यादव समेत विभाग के तमाम वरीय पदाधिकारी भी मौजूद रहे। मुख्यमंत्री ने कहा कि अधिकारियों से यह भी कहा कि सभी जगह साफ-सफाई की पूरी व्यवस्था रखें। लोगों को जागरूक करने के लिए व्यापक प्रचार-प्रसार कराएं। होर्डिंग, समाचार पत्रों एवं अन्य प्रचार माध्यमों का उपयोग कर लोगों को डेंगू से बचाव के लिए सचेत करें। अस्पतालों में बेडों की संख्या पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध रहे और मरीजों को इलाज में किसी प्रकार की असुविधा नहीं हो।

दरअसल, पटना समेत अन्य जिलों में डेंगू की रोकथाम के लिए किए जा रहे उपायों को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार 4 सितंबर को 1 अणे मार्ग स्थित ‘संकल्प’ में उच्चस्तरीय समीक्षा बैठक की। बैठक में मुख्यमंत्री को स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव प्रत्यय अमृत एवं नगर विकास एवं आवास विभाग के अपर मुख्य सचिव अरूणीश चावला ने डेंगू के बढ़ते मामले और उसकी रोकथाम के लिए किए जा रहे कार्यों की जानकारी दी। बैठक में मुख्यमंत्री को जानकारी बताया कि एंटी लार्वा छिड़काव नियमित रूप से किया जा रहा है।

समीक्षा के दौरान मुख्यमंत्री ने निर्देश देते हुए कहा कि अस्पतालों में बेडों की संख्या पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध रहे और मरीजों को इलाज में किसी प्रकार की असुविधा नहीं हो। ब्लड बैंक में प्लेटलेट्स की उपलब्धता सुनिश्चित कराएं, ताकि मरीजों को किसी प्रकार की परेशानी न हो। सभी जगह डेंगू रोधी दवा का छिड़काव नियमित रूप से हो। इसमें किसी तरह की लापरवाही नहीं हो। सभी जगह साफ-सफाई की पूरी व्यवस्था रखें। लोगों को जागरूक करें। होर्डिंग, समाचार पत्रों एवं अन्य प्रचार माध्यमों का उपयोग कर लोगों को डेंगू से बचाव के लिए सचेत करें।

मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग पूरी तरह से अलर्ट रहे और अस्पतालों में सभी जरूरी चीजों का इंतजाम रखें। अस्पतालों में बेड, चिकित्सक और दवा की कोई कमी नहीं होनी चाहिए। जिलों में भी पदाधिकारी इस पर नजर बनाए रखें, ताकि कोई मामला सामने आने के बाद तुरंत इलाज की व्यवस्था की जा सके।

बैठक में उप मुख्यमंत्री मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव दीपक कुमार, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव डॉ एस सिद्धार्थ, मुख्यमंत्री के सचिव अनुपम कुमार, पटना प्रमंडल के आयुक्त कुमार रवि, मुख्यमंत्री के विशेष कार्य पदाधिकारी गोपाल सिंह, नगर आयुक्त अनिमेष पराशर, अन्य वरीय अधिकारी एवं चिकित्सक भी उपस्थित थे।

Previous article4 सितंबर जयंती विशेष : अपने जमाने के अनोखे ठाठ थे हिंदी के ख्यातिलब्ध समालोचक डाॅ विष्णु किशोर झा ‘बेचन’
Next article‘कहने को तो लोकतंत्र की जननी है बिहार, लेकिन यहां तंत्र से लोक और लोक से तंत्र ही गायब’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here