MUNGER / PATNA (MR) : बिहार पंचायत चुनाव 2021 (Bihar Panchayat 2021) को लेकर मुंगेर जिले के संग्रामपुर प्रखंड में हुए मतदान की काउंटिंग लगभग पूरी हो गयी है। भारी सुरक्षा व्यवस्था मतगणना हुई। मतगणना मुंगेर में करायी गयी। सबसे पहले दुरमट्टा पंचायत के मुखिया पद का आया। इसके बाद बाकी मुखिया प्रत्याशी का निकला। चार पंचायतों में पुराने मुखिया ने अपनी कुर्सी बचाने में सफल रहे। इसमें बलिया, बढ़ौनिया, ददरिजाला व दुर्गापुर में मुखिया की कुर्सी बच गयी।

मुंगेर के संग्रामपुर में रिकॉर्ड मतों से जीत गईं ब्यूटी विश्वास। इन्होंने भी अपनी कुर्सी बचा ली। संग्रामपुर जिला परिषद से ब्यूटी विश्वास ने न केवल अपनी कुर्सी बचायी, बल्कि रिकॉर्ड मतों से विजयी भी हुई. उन्होंने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी को पांच हजार से अधिक मतों से पराजित किया. मुंगेर जिले में इतने अंतर से अब तक किसी ने नहीं जीता है. संग्रामपुर प्रखंड के जिला परिषद क्षेत्र संख्या 14 से निवर्तमान जिला पार्षद ब्यूटी विश्वास को 14242 मत मिले, जबकि निकटतम प्रतिद्वंदी पूनम भारती को 9095 मत आए. निर्वाचन आयोग के आंकड़े के अनुसार, ब्यूटी विश्वास ने पूनम भारती को रिकॉर्ड 5147 मतों से पराजित किया. ब्यूटी विश्वास सुल्तानगंज के पूर्व विधायक गणेश पासवान की बहू हैं.

Sangrampur Block

  • 06 : 00 PM : मुंगेर में रिकॉर्ड मतों से जीत गईं ब्यूटी विश्वास। निकटतम प्रतिद्वंद्वी को पांच हजार से अधिक वोटों से किया पराजित। संग्रामपुर जिला परिषद से ब्यूटी विश्वास को 14242 वोट मिले, जबकि निकटतम प्रतिद्वंदी पूनम भारती को 9095 मत आए। इस तरह ब्यूटी विश्वास ने पूनम भारती को रिकॉर्ड 5145 मतों से पराजित किया। ब्यूटी विश्वास सुल्तानगंज के पूर्व विधायक गणेश पासवान की बहू हैं। इस बार 10 में से 4 ने बचाई अपनी कुर्सी ।
  • 02 : 00 PM : कटियारी पंचायत से इस बार सावित्री देवी ने मुखिया पद पर बाजी मारी। उन्होंने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी महेश पासवान को 681 मत से पराजित किया। सावित्री को 1668 तो महेश को 987 मत मिले। बलिया से सारिका सिंह ने अपनी कुर्सी बचा ली। उन्होंने मुखिया की कुर्सी फिर से पा ली।
  • 11 : 00 AM : बढ़ौनिया पंचायत से वीर सिंह बहादुर निकले। उन्होंने अपनी कुर्सी बचा ली। फिर से वे मुखिया बन गए।
  • 10 : 00 AM – संग्रामपुर प्रखंड के दुरमट्टा पंचायत से सुबोध यादव लगभग 267 मत से जीत गए। इन्हें कुल 887 मत मिले। ये अपने प्रतिद्वंदी प्रत्याशी रामस्नेही यादव को हराया। रामस्नेही यादव पिछले दो बार से मुखिया पद पर रहे थे। जिसे इस बार पहली बार में ही चित कर दिया। दुरमट्टा पंचायत से रामसनेही यादव दूसरे स्थान पर रहे।
सुबोध यादव
  • 09 : 15 AM – सभी छह पदों के लिए मतगणना जारी है। परिणाम 10-10.30 बजे के बाद आने की उम्मीद है। 
  • 08 : 30 AM – मुंगेर मे आज तीसरे चरण की मतगणना शुरू हो गयी। 15 मिनट देर से यह शुरू हुई है। सभी 10 पंचायतों की गिनती शुरू की गयी है। 
  • 07 : 30 AM –  सुबह 6 बजे से ही मतगणना केंद्र डायट सेंटर पर प्रत्याशी जुटने लगे थे। सुरक्षा जांच के बाद मतगणना केंद्र में प्रत्याशियों, पोलिंग एजेंटों और कर्मियों को प्रवेश दिया गया। सुरक्षा में महिला सुरक्षाकर्मियों को भी पर्याप्त संख्या में लगाया गया है। 
  • 06 : 00 AM – मतगणना तो 8 बजे से शुरू होगी, लेकिन सुरक्षा व्यवस्था मतदान के दिन से ही फुल टाइट है। मतगणनाकर्मियों का भी जुटान होने लगा है। 

लगभग 1000 हैं प्रत्याशी

संग्रामपुर प्रखंड में विभिन्न पदों पर किस्मत आजमाने वाले लगभग एक हजार प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला हुआ। यहां की 10 पंचायतों में 129 मूल और 10 सहायक मतदान केंद्रों में चुनाव कराये गये थे। जिला परिषद के एक, मुखिया के 10, वार्ड सदस्य के 129, सरपंच के 10, पंच के 129 व पंचायत समिति सदस्य के 13 पदों के लिए गिनती की गयी।

तारापुर व टेटिया बंबर में 90% नये चेहरे

बता दें कि मुंगेर जिले में पहले चरण में तारापुर तथा दूसरे चरण में टेटिया बंबर में चुनाव हुआ था। दोनों जगहों के ट्रेंड को देखकर पुराने मुखिया सहमे हुए हैं। तारापुर में 10 में से 9 पुराने मुखिया हार गए थे। केवल मानिकपुर पंचायत में किरण चौधरी की कुर्सी बची थी, जबकि टेटिया बंबर में भी यही हाल रहा था। यहां से पुराने मुखिया में केवल भूना से अनिल तांती ने अपनी कुर्सी बचाई थी। हालांकि टेटिया पंचायत में शारदा देवी अपनी सास यशोदा देवी की कुर्सी पर कब्जा जमाने में सफल हुई थी।

इन पंचायतों की हुई काउंटिंग

  • पंचायत       –  मुखिया (2016)  – जीते (2021) 
  • दुरमट्टा        –   रामस्नेही यादव   – सुबोध यादव
  • बढ़ौनिया     –   वीर कुंवर सिंह    -वीर कुंवर सिंह
  • रामपुर        –   महासती देवी      – खुशबू कुमारी
  • दीदारगंज     –   अंजलि कुमारी   – अंजलि कुमारी
  • बलिया        –   सारिका सिंह      – सारिका सिंह
  • कटियारी      –   सुशीला देवी      – सावित्री देवी
  • ददरीजाला    –   उमेश ठाकुर      – पिंटू मंडल
  • दुर्गापुर         –   हरिनंदन यादव   – हरिनंदन यादव
  • झिकुली        –   मंजू देवी          – संजू कुमारी
  • कुसमार        –   किरण भगत     – नूतन कुमारी
Previous articleBook Review : ऐतिहासिक दस्तावेजों का महत्वपूर्ण संकलन है ‘बिहार में खादी’, गांधी ने चरखे के साथ इसे भी माना था रचना का प्रतीक
Next articleBihar Panchayat Chunav 2021 : डुमरांव में ‘स’ का चला ‘सिक्का’, सोनम की सोवां में चमकी किस्मत

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here