PATNA (MR) : बिहार में तो गजब ही हो रहा है। स्वास्थ्य विभाग में कोरोना के नाम पर ‘वैक्सीनेशन घोटाला’ सामने आया है। इसे घोटाला नहीं, बल्कि महाघोटाला कहना ही सही होगा। यह महाघोटाला पिछले दिनों कोरोना वैक्सीनेशन के महाअभियान में हुआ है। न्यूज 18 ने अपनी पड़ताल में इस ‘महाघोटाले’ का दावा किया है। पड़ताल में कहा गया है कि वैक्सीनेशन के महाअभियान में बिहार के अरवल जिले में प्रधानमंत्री, गृहमंत्री के साथ ही कई फिल्म अभिनेत्रियों के नाम पर कोरोना वैक्सीनेशन हो गया है।

कोरोना वैकसीनेशन के नाम पर हुई इतनी बड़ी गड़बड़ी के बाद सूबे के स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया है। अधिकारी सकते में हैं। इस पर कोई कुछ भी बोलने को तैयार नहीं हैं. वहीं न्यूज चैनल ने अपनी पड़ताल में बिहार के अरवल जिले में महावैक्सीनेशन में ‘महाघोटाला’ का दावा किया है। यह मामला जिले के कई अस्पतालों से जुड़ा हुआ है।

पड़ताल में यह भी कहा गया है कि अरवल जिले के करपी में किए गए एंटीजन टेस्ट में सैकड़ों लोगों के नाम फर्जी तरीके से डाल दिये गये हैं। इनके नाम और मोबाइल नंबर भी गलत हैं। कई चौंकाने वाले तथ्य सामने आए हैं। सबसे ज्यादा बड़ा मामला करपी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में सामने आया है। कहा जा रहा है कि इस केंद्र पर कई दिग्गज हस्तियों के नाम पर वैक्सीनेशन कर दिया गया है।

पड़ताल में यह तथ्य सामने आया है कि 27 अक्टूबर को आरटीपीसीआर टेस्ट और वैक्सीनेशन के नाम पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह, कांग्रेस की राष्ट्रीय सोनिया गांधी, फिल्म अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा, फिल्म अभिनेत्री कैटरीना कैफ, फिल्म अभिनेत्री ऐश्‍वर्या राय समेत कई प्रमुख हस्तियों के नाम वैक्सीनेशन लिस्ट में डाल दिए गए हैं। दावे के अनुसार, इन नामों के लोगों ने अरवल में कोरोना टीका लगवाया है। बताया जाता है कि मामला संज्ञान में आने पर राज्य स्वास्थ्य समिति ने स्वास्थ्य विभाग की क्लास ली है।

बहरहाल, देश की बड़ी-बड़ी हस्तियों के बिहार में वैक्सीनेशन लगने के बाद स्वास्थ्य विभाग कुछ बोलने की स्थिति में नहीं है। बता दें कि स्वास्थ्य विभाग ने पिछले दिनों दावा किया है कि बिहार में अब तक आठ करोड़ लोगों को कोरोना वैक्सीन लगाया जा चुका है। केवल अक्टूबर माह में ही यह आंकड़ा एक करोड़ पार गया है।

Previous articleवो भी क्या दिन थे : यादों में बोरसी की आग, जब बच्चे पकाने लगते थे आलू व शकरकंद!
Next article6 दिसंबर 1992 : दहशत से हुई थी मेरी पहली मुलाकात, टूट गयी थी बाबरी मस्जिद; काम आया माँ का अचार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here