HAVELI KHARGPUR (MR) : बिहार में लगतार है आरजेडी के अभी खराब दिन चल रहे हैं। तारापुर विधानसभा क्षेत्र में आरजेडी को झटके पर झटका लग रहा है। तारापुर विधानसभा क्षेत्र में आने वाले हवेली खड़गपुर के आरजेडी प्रखंड अध्यक्ष योगेश्वर गोस्वामी ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। पार्टी अभी तारापुर उपचुनाव में अपने प्रत्याशी की हार के गम से निकल भी नहीं पायी थी कि यह नया झटका लगा है। पार्टी के वरीय नेता अभी इस बिंदु पर कुछ बोलना नहीं चाह रहे हैं।

हवेली खड़गपुर के आरजेडी अध्यक्ष योगेश्वर गोस्वामी ने अपने इस्तीफे में लिखा है कि मैं अस्वस्थ रहने के कारण अपने पद से इस्तीफा दे रहा हूं। विगत कुछ दिनों से मेरी तबीयत ठीक नहीं रहती है और जिसके कारण डॉक्टरों को दिखलाने के लिए मुझे अक्सर बाहर जाना पड़ता है। इसकी वजह से मैं संगठन की मजबूती के लिए पर्याप्त समय नहीं दे पाता हूं। हालांकि, उन्होंने यह भी लिखा है कि पार्टी का मैं वफादार कार्यकर्ता बना रहूंगा।

बता दें कि योगेश्वर गोस्वामी तब से आरजेडी में एक्टिव हैं, जब​ हवेली खड़गपुर विधानसभा क्षेत्र था। उस समय यहां ​के विधायक जयप्रकाश नारायण यादव होते थे. जयप्रकाश नारायण यादव हवेली खड़गपुर से तीन बार विधायक तथा मुंगेर से एक बार सांसद रहे हैं। एक बार जयप्रकाश नारायण यादव की मां भी खड़गपुर से विधायक बनी थीं। लेकिन उपचुनाव में हवेली खड़गपुर से अनंत सत्यार्थी ने जीत दर्ज की थी। अब नए परिसीमन में हवेली खड़गपुर विधानसभा क्षेत्र का विलोपन हो गया और इसका एक पार्ट तारापुर तो एक पार्ट जमालपुर विधानसभा क्षेत्र शामिल हो गया है।

योगेश्वर गोस्वामी आरजेडी के पूर्व सांसद जयप्रकाश नारायण यादव के काफी नजदीकी माने जाते हैं। और पिछले साल उन्होंने योगेश्वर गोस्वामी को महत्वपूर्ण जिम्मेवारी सौंपते हुए प्रखंड अध्यक्ष की कमान सौंपी, ताकि पार्टी माय समीकरण की छवि से बाहर निकल सके। इतना ही नहीं, पहले की तरह योगेश्वर गोस्वामी ने 2020 के चुनाव तथा 2021 के उपचुनाव में जबर्दस्त मेहनत की. उपचुनाव तो ​वनडे क्रिकेट मैच की तरह काफी रोमांचक भी रहा। 2020 की तुलना में 2021 में आरजेडी प्रत्याशी को लगभग 17 हजार वोट अधिक मिले। हालंकि, आरजेडी की लगभग 4 हजार वोटों से हार हो गई।

बहरहाल, आरजेडी को हवेली खड़गपुर में योगेश्वर गोस्वामी से इस्तीफे से झटका लगा है। उन्होंने लाइव सिटीज से बात करते हुए अपना इस्तीफा जिलाध्यक्ष देने की बात कही है। अब देखना दिलचस्प होगा कि उनके इस्तीफे को पार्टी के वरीय पदाधिकारी किस रूप में लेते हैं। लेकिन उन्होंने अपनी बातों को रखते हुए कहा कि इन दिनों उनकी तबीयत ठीक नहीं रह रही हैं, इसलिए हमने अपना इस्तीफा पार्टी को भेज दिया है, इस इस्तीफे का चुनाव से कोई संबंध नहीं है।
साभार : लाइव सिटीज

Previous articleMilk Price Hike : दूध-दही तो छोड़िए जनाब! अब तो पनीर-पेड़ा व रसगुल्ला भी उछलने लगे हैं
Next articleBihar Panchayat Chunav 6th Phase : मुंगेर के धरहरा में बहू ने मारी किस्मत, सास को लॉटरी में दी पटखनी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here