PATNA (MR) : बिहार में पंचायत चुनाव की जल्द बजेगी रणभेरी… राज्य में अधिकतम 9 चरणों में पंचायत चुनाव हो सकते हैं। राज्य निर्वाचन आयोग ने इसकी तैयारी शुरू कर दी है। आयोग ने सभी जिलों के डीएम-सह-जिला निर्वाचन पदाधिकारी (पंचायत) से पूछा है कि उनके जिले में कितने चरणों में चुनाव कराया जाए।

सभी डीएम को एसएसपी व एसपी के साथ बैठक कर संभावित चरणों का प्रस्ताव आयोग को भेजना है। आयोग ने सभी डीएम को कहा है कि इस संबंध में चरणवार प्रखंडों का विवरण अधिकतम दो सप्ताह के अंदर उपलब्ध कराएं, ताकि चुनाव कराने का प्रस्ताव राज्य सरकार के विचारार्थ भेजा जा सके। आयोग ने कहा कि वर्ष 2021 के मार्च-मई के बीच त्रिस्तरीय पंचायतों एवं ग्राम कचहरियों का आम निर्वाचन कराने की संभावना है। पंचायत चुनाव में मतदान केंद्राें की संख्या विधानसभा निर्वाचन के मतदान केंद्राें की तुलना में काफी बढ़ जाती है, जिससे मतदानकर्मियों एवं सुरक्षा बलों की आवश्यकता भी बढ़ जाती है।

पंचायत आम निर्वाचन में केंद्रीय अर्द्धसैनिक बलों को मतदान केंद्राें पर प्रतिनियुक्त करने के लिए सरकार को लिखा जा रहा है। इसकी स्वीकृति प्राप्त होने के बाद सभी जिलों काें इसकी सूचना दी जाएगी। मतगणना अनुमंडल मुख्यालय में कोविड-19 को ध्यान में रखते हुए तथा सुरक्षा कारणों से बड़े हाॅल में कराया जाना है। अनुमंडल मुख्यालय में स्ट्रांग रूम के लिए भवन चिह्नित करना है।
मतदाता सूची के पुनरीक्षण का काम भी इसी महीने से: गौरतलब है कि जिला परिषद सदस्य, पंचायत समिति सदस्य, ग्राम पंचायत मुखिया, ग्राम कचहरी सरपंच, ग्राम पंचायत सदस्य और ग्राम कचहरी पंच के करीब 2 लाख 58 हजार पदों पर चुनाव होना है। इसके लिए मतदाता सूची के पुनरीक्षण कार्य भी इसी महीने से शुरू होगा।

बिहार में अगले साल होने वाले पंचायत चुनाव के मद्देनजर राज्य निर्वाचन आयोग ने सभी जिलों के डीएम को जिला निर्वाचन पदाधिकारी (पंचायत) और संबंधित जिला पंचायत राज पदाधिकारी को उस जिला के लिए जिला उप निर्वाचन पदाधिकारी (पंचायत) घोषित कर दिया है। आयोग ने इस बाबत आदेश जारी किया है।

Previous articleबिहार के DGP गुप्तेश्वर पांडेय ने लिया VRS, लड़ेंगे चुनाव; प्रभार में सिंघल
Next articleशेरपुर पंचायत के पूर्व मुखिया को सम्राट चौधरी ने दी श्रद्धांजलि

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here