PATNA (MR) : बिहार पंचायत चुनाव के 7वें चरण की मतगणना सुबह के 8 बजते ही शुरू हो गयी। मतगणना केंद्रों की कड़ी सुरक्षा की गयी है। सातवें चरण में 37 जिलों के 63 प्रखंडों की 903 पंचायतों में चुनाव कराए गए थे। इस चरण में 27730 पदों के लिए मैदान में खड़े 101984 प्रत्याशियों की किस्मत का फैसला होगा।

LIVE Result Bihar Panchayat Mujkiya Chunav

  • जहानाबाद जिले में एसएस कॉलेज में मतगणना केंद्र बनाया गया है। यहां अंदर जाने के पूर्व सभी प्रत्‍याशियों और उनके समर्थकों की कड़ाई से जांच की गयी।  
  • बांका जिले के शंभूगंज प्रखंड की 19 पंचायतों की गिनती नौ बजे से शुरू हुई। इसके लिए 15 टेबल लगाए गए हैं। मतगणना में 524 पदों के लिए 1956 प्रत्‍याशियों के भाग्य का फैसला होगा। सबसे पहले बारसाबाद पंचायत की गिनती शुरू होगी। 10 बजे से परिणाम आने लगेंगे।
  • नालंदा के चंडी व नूरसराय प्रखंडों की मतगणना बिहारशरीफ के नालंदा कालेज मतगणना केंद्र पर हो रही है। एक घंटे के भीतर चुनाव परिणाम आने शुरू हो जाएंगे। दोनों प्रखंडों में जिला पार्षद की दो-दो सीटें हैं, जिनके नतीजे पर सबकी निगाहें टिकी हैं।
  • कटिहार के मनिहारी व अमदाबाद प्रखंडों में मतगणना विलंब से शुरू हुई है। मतगणना बाजार समिति स्थित केंद्र पर चल रही है।
  • मुजफ्फरपुर की गिनती क्रमश: बाजार समिति एवं आरडीएस कालेज स्थित मतगणना केंद्रों पर हो रही है। इसके लिए पहले ही पंचायतों का रोस्टर जारी कर दिया गया है। मीनापुर में पैगंबरपुर और कांटी में वीरपुर पंचायत से सुबह आठ बजे मतगणना शुरू हुई।
  • जिलों के तमाम केंद्रों पर मतगणना शुरू होने के पहले ही लोग पहुंचने लगे थे केंद्रों पर। कड़ी सुरक्षा के बीच प्रत्याशियों व पोलिंग एजेंटों समेत मतगणना कर्मियों को केंद्रों के अंदर प्रवेश कराया गया। 

सातवें चरण में 3389 प्रत्याशी पहले ही निर्विरोध निर्वाचित हो चुके हैं। इनमें वार्ड सदस्य के 134, पंचायत समिति सदस्य के पांच, पंच के 3249 तथा ग्राम कचहरी सरपंच के एक पद शामिल हैं। बता दें कि इस चरण में कुल 62.14 प्रतिशत वोट पड़े थे। इनमें पुरुष मतदान 58.70 प्रतिशत तो महिला मतदान 65.58 प्रतिशत रहा था। सबसे अधिक गया तो सबसे कम सारण में मतदान हुआ था।

Previous articleSamrat Chaudhary Birthday : पंचायती राज मंत्री सम्राट चौधरी हो गए 53 साल के, जन्म दिन पर बाबा नगरी में की पूजा; सर्किट हाउस में काटे केक, देखें तस्वीरों में
Next articleमिथिलांचल का लोकपर्व : गांव की गलियों में गूंज रहे सामा-चकेवा के गीत, बहनों में दिख रही उमंग

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here