RAJGIR (SANTOSH KUMAR)। राजकीय राजगीर मलमास मेला परिसर में बिहार राज्य खादी ग्रामोद्योग बोर्ड द्वारा लगाए गए खादी मेला सह उद्यमी बाजार का उद्घाटन नालंदा के जिलाधिकारी शशांक शुभंकर, उप विकास आयुक्त वैभव श्रीवास्तव तथा बिहार राज्य खादी ग्रामोद्योग बोर्ड के मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी दिलीप कुमार ने संयुक्त रूप से किया। उद्घाटन के बाद जिलाधिकारी शशांक शुभंकर और बाकी अतिथियों ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की तस्वीर पर पुष्पांजलि की और उसके बाद दीप प्रज्वलन का कार्यक्रम हुआ।

जिलाधिकारी शशांक शुभंकर ने अलग-अलग स्थानों पर जाकर खादी संस्थानों के प्रतिनिधियों और बुनकरों से मुलाकात की और उन्हें आश्वस्त किया कि मेला अवधि में उनकी सुविधाओं का ख्याल रखा जाएगा। उन्होंने कहा कि बिहार की खादी की विश्वसनीयता पूरे देश में है। मधुबनी, नालंदा और भागलपुर सहित अनेक जिलों में खादी और हथकरघा के वस्त्र बनाए जाते हैं।

उन्होंने कहा कि नेपुरा गांव के बुनकरों द्वारा बनाए गए कपड़े काफी आरामदायक होते हैं। इसी तरह, नालंदा जिले के बसबन बीघा में बुनकरों द्वारा तैयार बावन बूटी चादरों की ख्याति पूरी दुनिया में है। बसबन बीघा पद्मश्री कपिलदेव प्रसाद का गांव है और बावन बूटी के लिए ही उन्हें केंद्र सरकार की ओर से पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया है।

बिहार राज्य खादी ग्रामोद्योग बोर्ड के मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी दिलीप कुमार ने बताया कि बोर्ड द्वारा लगाया गया खादी मेला एवं उद्यमी बाजार में कुल 135 स्टाल लगाए गए हैं, जिसमें 41 खादी संस्थाएं, हैंडीक्राफ्ट के 13 संस्थान, हैंडलूम की 30 दुकानें, मुख्यमंत्री उद्यमी योजना और दूसरी सरकारी योजनाओं के नालंदा जिला  के लाभुकों की 41 दुकानें लगाई गई हैं। जिला उद्योग केंद्र नालंदा द्वारा जिला के उद्यमियों के लिए विशेष तौर पर व्यवस्था की गई है।

उद्घाटन के अवसर पर जिला उद्योग केंद्र नालंदा के महाप्रबंधक विशेश्वर प्रसाद, जिला ग्रामीण विकास अभिकरण के निदेशक विवेक चंद्र पटेल, जिला खादी ग्रामोद्योग पदाधिकारी अभय कुमार, जिला खादी ग्रामोद्योग पदाधिकारी पटना राजीव कुमार शर्मा, कमलेश कुमार त्रिवेदी, अभिषेक आदि मौजूद रहे।

Previous articleपावर स्टार पवन सिंह की सनक में मिलेगा बहुत कुछ नया, इस डेट को होगी रिलीज
Next articleमगध महिला कॉलेज में पटना नगर निगम ने चलाया स्वच्छता जागरूकता अभियान

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here