PATNA (RAJESH KUMAR THAKUR) : शारदेय नवरात्र की धूम बिहार की तरह पूरे देश में है। आज नवरात्र की नवमी है। माँ सिद्धिदात्री के स्वरुप की पूजा की जा रही है। माँ दुर्गा से लोग सफलता के आशीर्वाद मांग रहे हैं। उनसे मिन्नतें कर रहे हैं। वहीं समाज में हर तबका गलत-सलत के दलदल में धंसा हुआ है। ऐसे में माँ दुर्गा से यही आग्रह है कि समाज को सही दिशा में ले चलें। पढ़िए ख़ास रिपोर्ट।

1. इन नेताओं को सद्बुद्धि दें : बिहार ही नहीं पूरे देश की राजनीति में कड़वाहट आ गयी है। कहीं जात-पात तो कहीं हिंदू-मुस्लिम की राजनीति को धार दी जा रही है। भाई-भतीजावाद भी भर गया है। लोग यही मांग रहे हैं- हे दुर्गा माँ। इन बुराइयों को राजनीति से समाप्त कीजिए। नेताओं को सद्बुद्धि दीजिए।

2. पत्रकारों को पक्षपात से दूर रखें : हे दुर्गा माँ। पत्रकारों को पक्षपात से दूर रखें। उन्हें सही-गलत को समझने की शक्ति दें। दरअसल, पत्रकारों पर नेताओं-अधिकारियों से घिरे होने के आरोप वर्षों से लगते आ रहे हैं। खासकर अभी की केंद्र सरकार में मोदी मीडिया, गोदी मीडिया से लेकर न जानें क्या-क्या आरोप लग रहे हैं। इन आरोपों से इन्हें दूर रहने की जरूरत हैं। 

3. युवाओं को भी सदविचार दें : हे दुर्गा माँ! आज की पीढ़ी भटकती जा रही है। नेट फ्रेंडली का बैड इफेक्ट सीधा दिख रहा है। वे आपस में छोटी-छोटी बातों से उलझते जा रहे हैं। इन्हीं वजहों से वे अपराध की दुनिया में भी कूद जा रहे हैं। रील के चक्कर में जान गंवा रहे हैं। ऐसे युवाओं को भी माँ सदविचार दें।

4. बच्चों को भी सही ज्ञान मिले : हे दुर्गा माँ! आपसे यह भी विनती है कि बच्चों को भी सही ज्ञान दीजिए। ताकि वे अपने भविष्य को निखार सकें। अपने सही पथ पर चल सकें। अपने कर्म पथ पर वे नहीं डिगे। अपने माता-पिता के सपनों को पूरा कर सकें। अपने कर्म से समाज, राज्य और देश का नाम रोशन करें।

5. महिलाओं को सही राह पर चलने की जरूरत : हे दुर्गा माँ। आप तो माँ हैं। महिलाओं की सांसारिक मोह-माया को भी आप भली-भांति समझती हैं। लेकिन यह भी सच है कि कुछ महिलाओं की वजह से घर फूटे, गंवार लूटे वाली कहावत चरितार्थ हो रही है। सास-बहू के रिश्ते आज भी बदनाम है। दहेज हो महिला उत्पीड़न, इसके मैक्सिमम मामलों में महिलाएं ही दोषी मानी जाती हैं। माँ, इन महिलाओं को भी सही बुद्धि दें। उन्हें सही राह पर चलने का ज्ञान दें। 

6. भ्रष्ट अधिकारियों को सही दिशा दिखाएं : यह भी सच है कि लाख कड़ाई और सतर्कता के बाद भी भ्रष्टाचार के मामले थम नहीं रहे हैं। ऐसे मामलों से रोज अखबार भरे रहते हैं। ऐसे मामले एक विभाग में हो तो कहा जाए। हर विभाग की यही स्थिति है। कोई नौकरी देने में बड़ी डील कर रहा है तो कोई भाई-भतीजावाद कर रहा है। हे दुर्गा माँ। इन भ्रष्ट अधिकारियों को सही दिशा दिखाएं।

7.  घूसखोर अफसरों को सही राह दिखाएं : घूसखोरी के मामलों में भी खूब इजाफा हो गया है। हर रोज किसी न किसी अखबार या न्यूज चैनल पर यह खबर सुर्खियों में रहती है। इसमें बाबू से लेकर अफसर तक जेल जा रहे हैं। इसके बाद भी न तो अधिकारी सबक ले रहे हैं और न ही कर्मी ही इससे तौबा कर रहे हैं। ऐसे लोगों को भी माँ दुर्गा सही रास्ता दिखाएं। 

8. पुलिस को भी गलत रास्तों पर जाने से बचाएं : अफसरों की तरह पुलिस तंत्र में भी भ्रष्टाचार भरा पड़ा है। हालांकि इसमें भी सब खराब नहीं है। कुछ पुलिस अधिकारी इतने अधिक ईमानदार होते हैं कि उनके नामों की दुहाई दी जाती है। वहीं कुछ की वजह से पूरा महकमा बदनाम हो जाता है। ऐसे में iमाँ दुर्गा से आग्रह हैं कि इन्हें भी गलत कार्यों से दूर रखें, ताकि आमलोगों को सही इन्साफ मिले।

9. समाज में मिल्लत के फूल खिले : कहा जाता है मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है और यह भी सच है कि समाज तभी आगे बढ़ेगा, जब लोग आपस में मेल-मिल्लत से रहेंगे। लेकिन आए दिन जिस तरह गलत संगत में दोस्ती और रिश्ते तार-तार हो रहे हैं, वह कहीं से भी जायज नहीं है। मधुर रिश्तों को संजोने की जरूरत है।

Previous articleयात्रा संस्मरण : अशोक कुमार सिन्हा के मैक्सिको दौरे में किस कदर सामने आया भाषा का संकट
Next articleचल बैठें चांद के नीचे, शरद पूर्णिमा पर ध्रुव गुप्त का पढ़ें सारगर्भित आलेख

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here