PATNA (MR) : बहुजन समाज पार्टी के बिहार प्रभारी अनिल कुमार ने कहा कि साल 2024 के लोकसभा चुनाव में बहन मायावती को मजबूत करने के लिए बिहार से अधिक से अधिक सीट जीतने हेतु पार्टी के तमाम नेता व कार्यकर्ता संकल्पित हैं। उन्होंने कहा कि मान्यवर कांशीराम ने नारा दिया था ‘जिसकी जितनी संख्या भारी, उसकी उतनी हिस्सेदारी’। भारत में मंडल आयोग तो लागू हुआ, लेकिन 52% पिछड़े अति पिछड़ों को मात्र 27% ही आरक्षण प्राप्त हुआ। बसपा ने पिछड़े समाज में जन्मे ज्योतिबा राय फूले, छत्रपति शाहूजी महाराज, पेरियार रामास्वामी नायकर इत्यादि महापुरुषों के आदर्श पर चलकर उत्तर प्रदेश में बहन मायावती ने अपने शासनकाल में पिछले अतिपिछड़े को शत-प्रतिशत राजनीतिक हिस्सेदारी देने का सफल प्रयास किया, लेकिन संपूर्ण भारत में पिछड़ा-अतिपिछड़ा समाज अपने अधिकारों से आज भी वंचित है।

अनिल कुमार पिछड़े-अति पिछड़े और वंचितों को उचित राजनीतिक और आर्थिक हिस्सेदारी देने की मांग को लेकर आज शुक्रवार को पटना के बापू सभागार में बहुजन समाज पार्टी की ओर से आयोजित ‘पिछड़ा-अति पिछड़ा अधिकार सम्मेलन’ को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि पिछड़े समाज में पैदा हुए कुछ नेताओं को सरकार बनाने व चलाने का अवसर तो प्राप्त हुआ, परंतु ये नेतागण अपने स्वार्थ सिद्धि में ही लगे रहे। बिहार में अभी तक पिछड़े, अतिपिछड़े समाज को शोषण दमन व उत्पीड़न का शिकार बनाया गया। शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार व सुरक्षा सरक्षा इत्यादि प्रदान नहीं किया गया।

उन्होंने कहा कि वर्तमान केंद्र सरकार जहाँ मनुवादियों की गोद में बैठकर मनुस्मृति के कानूनों को लागू कर रही है, वहीं बिहार में पिछड़े का शासन होने के बावजूद पिछड़े-अतिपिछड़ों के न केवल राजनैतिक हिस्सेदारी में कमी आई है, बल्कि मनुवादियों के इशारों पर पिछड़े-अतिपिछड़ों की हत्या-अपहरण, बलात्कार की घटनाएं हुई हैं। प्रदेश प्रभारी ने उदाहरण देते हुए कहा कि बिहार में मुंगेर निवासी स्नेहा मंडल, सासाराम के ई. अजय पटेल, मोकामा की उषा पटेल एवं सोनपुर के राजा पटेल आदि की हत्या सामंतवादी ताकतों द्वारा की गई है। वर्तमान सरकार मूकदर्शक बनी है। उनके परिवार न्याय के लिए आज भी भटक रहे हैं, उन्हें इंसाफ नहीं मिल रहा है। ऐसे सैकड़ों पिछड़ों-अतिपिछड़ों की हत्या, अपहरण एवं बलात्कार की घटनाएं हो रही हैं, लेकिन वर्तमान सरकार उन्हें न्याय नहीं दिला पा रही है।

इसके पहले मुख्य अतिथि के रूप में बहुजन समाज पार्टी के मुख्य केंद्रीय प्रभारी आकाश आनंद ने बिहार के नेताओं और कार्यकर्ताओं में जोश भरा। इस अवसर पर पार्टी के राज्यसभा सांसद रामजी गौतम, राष्ट्रीय प्रदेश प्रभारी लालजी मेघांकर, एडवोकेट सुरेश राव ने भी संबोधित भी किया। आकाश आनंद ने कहा कि बिहार में पिछड़ा-अतिपिछड़ा समाज 33 साल पहले की तरह हाशिये पर है, जबकि विगत 33 सालों से यहां शासन की कमान पिछड़ों के हाथ में है। यह दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति है। प्रदेश की जदयू-राजद वाली महागठबंधन सरकार ओबीसी- बहुजन समेत सर्व समाज विरोधी है और हमें इसे बदलना होगा। उन्होंने कहा कि आज मैं बहन मायावती का संदेश लेकर बिहार की पावन भूमि पर आया हूँ। मैं खुद को सौभाग्यशाली मानता हूँ कि आज मुझे मंडल मसीहा सह बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री बीपी मंडल की धरती पर संवाद का अवसर मिला है।

इस मौके पर रामजी गौतम (राज्यसभा सांसद), एडवोकेट सुरेश राव (राष्ट्रीय प्रदेश प्रभारी), शंकर महतो (प्रदेश अध्यक्ष), सकलदेव दास (प्रदेश उपाध्यक्ष), संजय मंडल (प्रदेश महासचिव), रंजन पटेल, अमर आजाद, ई सुनेश कुमार, शिवकुमार कुशवाहा, सुशील कुशवाहा, अभिमन्यु कुशवाहा, धर्मेंद्र सहनी, विनोद पटेल, लल्लू पटेल, पिंटू यादव, चंद्र किशोर पाल, चम्पा यादव, रंजना गुप्ता, उदय प्रताप सिंह, साजिद हुसैन मौजूद रहे।

Previous articleओबीसी-बहुजन समेत सर्वसमाज विरोधी है बिहार की जदयू-राजद सरकार : बसपा
Next article‘संस्कृति कार्य समूह’ पर डाक टिकट जारी, पोस्टमास्टर जनरल केके यादव ने प्रथम सेट किया भेंट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here